Monday, April 6, 2009

गांव अपना याद करता है

वो जिसकी गौनियों से तुम डले गुड़ के चुराते थे
वो जिसके तास के बूरे में तुम फ़ंकी लगाते थे
जो तुमसे बांटता था गोलियां चूरन की रोजाना
वो जिसकी सायकिल हर शाम को तुम मांग लाते थे
कभी तो लौट कर आओगे तुम ये बात करता है
तुम्हें वो गांव का पप्पू पंसारी याद करता है

जहां तुमने बहस की थी खड़े होकर चुनावों की
जहां तुम बात करते थे ज़माने के गुनाहों की
हैं धब्बे पीक के दूकान के बाजू अभी मौजूद
जहां छोड़ी निशानी पान के तुमने लुआबों की
अभी चूना लगाने की तुम्हारी बात करता है
तुम्हें ले पान , वो कुन्दन कबाड़ी याद करता है

मियां जुम्मन रहे लाते थे जिस पर लाद कर कुल्लड़
कि जिसके साथ मचता था बरस का फ़ागुनी हुल्लड़
सवारी जिसकी करते थे बने होली पे तुम टेपा
घुमाता था तुम्हें जो रोज ही चौपाल से नुक्कड़
गधा वो फिर तुम्हारे साथ की फ़रियाद करता है
तुम्हें वह गांव का मोहन मदारी याद करता है

कभी जिसके कटोरे में न डाला एक भी पैसा
जो कहता था नहीं देखा कभी कोई भी तुम जैसा
वो जिसके हाथ की लाठी कभी तुम लेके भागे थे
न जिससे पूछ पाये थे हुआ है हाल क्यों ऐसा
तुम्हें मनहूसियत कह दर्द का इज़हार करता है
तुम्हें वो गांव का भीखू भिखारी याद करता है

सुनो ! संभव अगर हो एक दिन वापिस चले जाओ
नहीं बदले जरा सा भी, उन्हें ये बात बतलाऒ
कहो अब गुड़ नहीं चीनी के पैकेट तुम उठाते हो
गधे जैसी खटारा ही यहां पर तुम चलाते हो
यहां पानी का कूलर वक्त को बरबाद करता है
तुम्हारा दिल अभी भी गांव अपना याद करता है

5 comments:

परमजीत बाली said...

बहुत सुन्दर रचना है\गाँव की यादे सभी को अपने अपने ढंग से याद आती रहती हैं।बहुत बढिया रचना है।बधाई।

Udan Tashtari said...

अरे महाराज!! ऐसे याद करेगा गांव तब तो कुट कर ही लौटना संभव हो पायेगा.

गधा वो फिर तुम्हारे साथ की फ़रियाद करता है
तुम्हें वह गांव का मोहन मदारी याद करता है

-गजब भाई जी..ऐसे में तो बिना याद किए ही ठीक है. :)

रंजना said...

ऐसा कौन होगा जिसके ह्रदय में इस रचना को पढ़ मिटटी से कटने की हूक न उठेगी....बहुत बहुत सुन्दर ...लाजवाब...

Shar said...

:)

Anonymous said...

वो जिसके हाथ की तुम दाल बाटी दबा खाते थे
वो जिसके फूल पूजा के प्रिया को दे के आते थे
तुम्हारे एक ख़त को सौ-सौ बारी पढ़ा करती थी
वो जिससे ले उधारी तुम सिनेमा देख आते थे
तुम्हारे चित्र सीने से लगा वो बात करती है
तुम्हें वो गाँव की ग्वालिन गुलाबो याद करती है !