Sunday, March 9, 2008

ज्योति अंगड़ाई में टूटती रह गई

जिस डगर पर चले थे कदम सोचकर
मंज़िलों की दिशा उनको बतलायेगी
हो गई है दिशाहीन खुद वो डगर
एक ही चक्र में घूमती रह गई

थे चले अनवरत हर घड़ी के कदम
भोर में सांझ में दोपहर के तले
उग रहे सूर्य की रश्मियां थाम कर
साथ छोड़ा नहीं जब तलक वो ढले
नीड़ के हर निमंत्रण की अवहेलना
कर के पाथेय अक्सर नकारा किये
अपनी रफ़्तार को तेल करते हुए
प्रज्वलित कर रहे नित्य गति के दिये

काल ने पथ पे लेकिन लिखा और कुछ
थी निराशा जिसे चूमती रह गई

यामिनी के गगन से उतर चाँदनी
राह की धूल का करती श्रंगार थी
नभ की मंदाकिनी से उमड़ती हुई
हर लहर यूँ लगा एक उपहार थी
किन्तु परछाईयों के धुंधलके सघन
बिम्ब आकर नयन के मिटाते रहे
और कंदील की हर निगल रोशनी
बस अंधेरा उगल कसमसाते रहे

इसके पहले कि बांहों में लौ बन उठे
ज्योति अंगड़ाई में टूटती रह गई

हर कदम के परस से रही राह में
फूटती कोंपलें दुधमुंही आस की
चाह की ले संवरती हुई पांखुरी
शायिका बन सकें एक मधुमास की
किन्तु विषधर बना पतझड़ों का कहर
स्वप्न के हर सुमन को निगलता रहा
और ऐसे ही दिन जो उगा भोर में
सांझ की गोद में नित्य ढलता रहा

नैन में ले अधूरे से इक प्रश्न को
सांस हर द्वार कुछ पूछती रह गई

6 comments:

मीत said...

हर कदम के परस से रही राह में
फूटती कोंपलें दुधमुंही आस की
चाह की ले संवरती हुई पांखुरी
शायिका बन सकें एक मधुमास की
किन्तु विषधर बना पतझड़ों का कहर
स्वप्न के हर सुमन को निगलता रहा
और ऐसे ही दिन जो उगा भोर में
सांझ की गोद में नित्य ढलता रहा

नैन में ले अधूरे से इक प्रश्न को
सांस हर द्वार कुछ पूछती रह गई

न, कुछ कहना नहीं है.

Udan Tashtari said...

हमेशा की तरह पुनः एक उत्कृष्ट रचना...क्या कहें..वाह वाह!!

परमजीत बाली said...

बहुत बेहतरीन रचना है

यामिनी के गगन से उतर चाँदनी
राह की धूल का करती श्रंगार थी
नभ की मंदाकिनी से उमड़ती हुई
हर लहर यूँ लगा एक उपहार थी
किन्तु परछाईयों के धुंधलके सघन
बिम्ब आकर नयन के मिटाते रहे
और कंदील की हर निगल रोशनी
बस अंधेरा उगल कसमसाते रहे

Parul said...

इसके पहले कि बांहों में लौ बन उठे
ज्योति अंगड़ाई में टूटती रह गई

वाह!एक एक पंक्ति ,भाव--खिल रहे हैं……

पंकज सुबीर said...

राकेश जी आपकी कविताएं पढ़कर मुझे बच्‍चन जी की याद आ जाती है वही प्रयोग वही सारे शब्‍द । आपका लेखन इस समय में सबसे सार्थक प्रयोग है बाकी हम सब तो केवल कलम ही घिस रहे हैं । भारत कब तब हैं सूचित करें । दुर्भाग्‍य से आपने जो नम्‍बर दिये थे वे कहीं मिस हो गए सो आपको काल नहीं कर पा रहा हूं ।

sunita (shanoo) said...

हर कदम के परस से रही राह में
फूटती कोंपलें दुधमुंही आस की
चाह की ले संवरती हुई पांखुरी
शायिका बन सकें एक मधुमास की
किन्तु विषधर बना पतझड़ों का कहर
स्वप्न के हर सुमन को निगलता रहा
और ऐसे ही दिन जो उगा भोर में
सांझ की गोद में नित्य ढलता रहा

नैन में ले अधूरे से इक प्रश्न को
सांस हर द्वार कुछ पूछती रह गई

बहुत खूबसूरत लगी यह पंक्तियाँ...