Monday, October 27, 2008

दीपावली २००८


दीपावली २००८

चाहता तो हूँ लिखूँ हर ओर बिखरा धान्यधन है
चाहता तो हूँ लिखूँ उल्लास भी उमड़ा सघन है
चाहता लिख दूँ हज़ारों रंग सपनों में भरे हैं
चाहता लिख दूँ मगन प्रमुदित सभी का आज मन है

किन्तु मेरी लेखनी विद्रोह करती कह रही है
किसलिये तू सत्य को बिसरा, स्वयं छलता रहेगा

वर्त्तिका पर छा रहे हैं इन दिनों गहरे कुहासे
स्वप्न आंखों में सँवरते हैं, मगर होकर धुंआसे
घिर अनिश्चय के घनेरे जाल में हैं छटपटाते
शब्द आते होंठ पर लेकिन सभी होकर रुंआसे

किन्तु है विश्वास फिर भी इन अंधेरी वीथियों में
दीप इस दीपावली पर जगमगा जलता रहेगा

कामना के शब्द लगते खोखले हैं आज सारे
हैं खड़े निस्तब्ध आंगन, अल्पना से कट तिवारे
खील अक्षत हो गये रह कर बताशों से अपैरिचित
शोर करते बज रहे शंकाओं के दुन्दुभि नगाड़े

हर अंधेरी रात का अवसान कर देता सवेरा
है अमिट विश्वास मन में और यह पलता रहेगा

डर रही हैं उंगलियां भी फूल की पांखुर उठाते
लड़खड़ाते शब्द सारे आरती के गीत गाते
देख कर ॠण के तकाजे दीप मुंह ढाँपे खड़े हैं
हैं लरजते होंठ पढ़ते मंत्र लेकिन थरथराते

आस की डोरी पकड़ कर बस किरण इक कह रही है
है लगा छँटने अँधेरा और यह ढलता रहेगा

12 comments:

नारदमुनि said...

jee chahta tha tabhee to likha gaya. narayan narayan

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

" दीप इस दीपावली पर जगमगा जलता रहेगा "
" लेखनी का तेज,
तिमिर को हरता रहेगा "
दीपावली पर
स - परिवार शुभकामनाएँ!

Udan Tashtari said...

बहुत उम्दा!!

आपको एवं आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं.

निरन्तर - महेंद्र मिश्रा said...

दीपावली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं

नितिन व्यास said...

दीपपर्व पर मंगलकामनायें!

रंजना [रंजू भाटिया] said...

आपके और आपके समस्त परिवार के लिए दीवाली का पर्व मंगलमय हो!

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

सुन्दर कविता!

दीपावली पर हार्दिक शुभ कामनाएँ।
यह दीपावली आप के परिवार के लिए सर्वांग समृद्धि लाए।

seema gupta said...

दीप मल्लिका दीपावली - आपके परिवारजनों, मित्रों, स्नेहीजनों व शुभ चिंतकों के लिये सुख, समृद्धि, शांति व धन-वैभव दायक हो॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰ इसी कामना के साथ॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰ दीपावली एवं नव वर्ष की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

Shar said...

लेखनी की रोशनी से प्रज्जवलित वन औ निजन हैं
=================
आपको और समस्त परिवार को इस पावन पर्व की अनगिन शुभकामनायें !
=================
गुरुजी, आज spelling mistakes के बहुत अंक काटने पडेंगे :)

मीत said...

कविवर प्रणाम ! आप को और समस्त परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं.

Poonam said...

यह मन का विशवास ही तो है जो आशा का दीप बुझने नहीं देता. आपको और आपके परिवार को दीपावली की शुभकामनाएं !

अभिषेक ओझा said...

सुंदर रचना !

आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें !